Do You Have Any Enquiry? Call Us 0788-2621209 Or Send An Email nagpuratirth@gmail.com
Opening Hours : Monday to Sunday - 8.30 am to 5.00 pm Contact : 8103197101
  • slide 4

    Shri Labdhi Vikram Raj Aarogyadham Sansthan

    Nature Cure & Yoga, Aarogyam, Hospital, Nagpura

    Shri Labdhi Vikram Raj Aarogyadham Sansthan - a Yoga and Nature Care Hospital was established in the year 1996.
  • slide 4

    Opening and Running Hospitals, Aarogyadham

    NATUROPATHY -A HARMONY WITH NATURE

    Naturopathy and Yoga constitute an independent system of healthcare which is entirely natural, simple and safe, without any side effects.
  • slide 4

    50 Bed Nature Cure & Yoga Hospital, Aarogyam, Nagpura

    Approved Patient Centre for Nature Yoga by C.C.R.Y.N.

    Approved Patient Centre For Nature Yoga by C.C.R.Y.N. (Ayush - Mini of H & Fw Govt. of India), New Delhi.

आरोग्यम् : प्राकृतिक उपचार-योग संस्थान सहित पंचकर्म उपचार एवं अनुसंधान केन्द्र

  Download Brochure

उपचार विधियाँ

आरोग्यम् प्राकृतिक चिकित्सा

प्राकृतिक चिकित्सा एक ऐसी चिकित्सा है जो उपचार के लिए प्राकृतिक रूप से उपलब्ध संसाधनों का प्रयोग करती है |

आरोग्यम्-मिट्टी उपचार

पंच तत्वों में मिट्टी की अपनी एक महत्ता है। मिट्टी भी शरीर को स्वस्थ रखने एवं रोगों से बचाव में अपूर्व सहायक होती है। .

छत्तीसगढ़ीय मालिश-मसाज

चित्त और शरीर में सौन्दर्य, प्रसन्नता, आरोग्य, दीर्घजीवन, सेवा सत्कार्य,आदि गुणवर्धन का साधन मसाज क्रिया प्राचीन काल से प्रचलित है।

आरोग्यम्-जल चिकित्सा

जलभावनाओ को पकड़ता है। जल की प्राणी मात्र के लिए बाह्य एवं आंतरिक उपयोगिता सर्वविदित है सम्य निर्मलता जल से ही संभव है।

आरोग्यम् उर्जा उपचार

सूर्य चिकितसा भारत की प्राचीन प्रणाली है। सूर्य समाहित ऊर्जा प्राणदायिनी है। सौर ऊर्जा के साथ यांत्रिकीय व्यायाम भी आरोग्यम् में उपलब्ध है।

आरोग्यम् पंचकर्म- चिकित्सा

प्राकृतिक चिकित्सा आयुर्वेद का ही एक अंग है वैसे ही पंचकर्म भी आयुर्वेद का एक अंग है। आरोग्यम् में वर्ष 2006 से पंचकर्म उपचार प्रारंभ किया गया।

प्राकृतिक एवं योग चिकित्सालय,नगपुरा-दुर्ग,छत्तीसगढ़

आरोग्यम् योगोपचार चिकित्सा

1

षठ्कर्म

(शोधन क्रिया-योग) आन्तरिक शुद्धि के लिए नेति, कपालभारती और त्राटक नित्य प्रति करें। इसके अभ्यास से मस्तिष्क शुद्धि एवं श्वसन क्रिया सामान्य होती है।

2

वज्रासन

भोजन पश्चात 20 मिनट का अीयास पाचन शक्ति को बढ़ाता है। अतिनिद्रा व अनिद्रा के लिए अच्छा है।

3

प्राणायाम

नाड़ी शोधन प्राणायाम एवं उज्जायी प्राणायाम - इसका अभ्यास करने से शरीर और मस्तिष्क में स्फूर्ति व ऊर्जा की वृद्धि होती है।

आरोग्यम् के बारे में

आरोग्यम् प्राकृतिक उपचार-योग संस्थान एवं अनुसंधान केन्द्र
आरोग्यम प्राकृतिक एवं योग चिकित्सालय की मान्यता

आरोग्यम् नगपुरा जो श्री लब्धि-विक्रम-राज आरोग्यम संस्थान (पंजी.) द्वारा संचालित है। भारत शासन के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के आयुष विभाग के केन्द्रीय योग एवं प्राकृतिक अनुसंधान परिषद (C.C.R.Y.N.) नई दिल्ली द्वारा मान्य प्राकृतिक एवं योग उपचार केन्द्र है।

आरोग्यम प्राकृतिक एवं योग उपचार केन्द्र में चिकित्सालय

आरोग्यम् नगपुरा प्राकृतिक एवं योग उपचार केन्द्र में 50 बिस्तरों वाला चिकित्सालय है। आरोग्यम केवल चिकित्सालय नहीं है बल्कि यह आपको आपका आरोग्य आपके हाथों सौपने का स्थल है। यह निरामय जीवन जीने की भावना दृढ़ बनाता है।

कार्यालयीन अवधि

साधक से मिलने का समय प्रतिदिन सायं 5.00 बजे से 7.00 बजे तक ही रहेगा व निर्धारित मेहमान कक्षा में ही साधक से मुलाकात की जाएगी।
साधक के ओपीडी का समय निम्नानुसार है :-

सोमवार 8:30 am-12:30 pm & 2.30 pm-5.00 pm
मंगलवार 8:30 am-12:30 pm & 2.30 pm-5.00 pm
बुधवार 8:30 am-12:30 pm & 2.30 pm-5.00 pm
गुरुवार8:30 am-12:30 pm & 2.30 pm-5.00 pm
शुक्रवार 8:30 am-12:30 pm & 2.30 pm-5.00 pm
शनिवार 8:30 am-12:30 pm & 2.30 pm-5.00 pm
रविवार 8:30 am-12:30 pm & 2.30 pm-5.00 pm

प्राकृतिक चिकित्सा एवं योग-स्वस्थ जीवन पद्धति

"पूज्य श्री लब्धि-विक्रम गुरुकृपा पात्र की प्रेरणा से स्वस्थ मन, स्वस्थ शरीर एवं स्वस्थ आराधना की विहंगम परिकल्पना आज प्राकृतिक चिकित्सा एवं उसमें उत्तरोत्तर अनुसंधान द्वारा मानवीय सेवा का सद्भाविक प्रयास आरोग्यम् के रूप में हस्ताक्षरित है ."
एक सुन्दर आरोग्यम प्रस्तुत है। प्राकृतिक सम्पदा निरोगी शरीर, स्वस्थ मन और स्वस्थ आराधना के लिए अनुकूल बनाने में हम आपको सहभागी बनाना चाहते हैं। महात्मा गाँधी के अनुसार प्राकृतिक चिकित्सा में जीवन परिवर्तन की बात आती है। रावलमल जैन ‘मणि’, अध्यक्ष, छत्तीसगढ़ प्राकृतिक एवं योग विज्ञान संस्थान
"Nature cure means a change for the better in ones outlook on life itself. It means regulation of one's life in accordance with the laws of health. It is not a matter of taking free medicine from the hospital or for fees - Mahatma Gandhi "

प्राकृतिक चिकित्सा आवास श्रेणी शुल्क

ए.सी. रूम

प्राकृतिक एवं योग चिकित्सालय में भर्ती होने वाले साधक का प्रतिदिन प्रतिबेड शुल्क - उपचार, भोजन एवं आवास.

" छत्तीसगढ़ के पूर्व राज्यपाल श्री के.एम. सेठ ने कहा कि रोग की पहचार कर यदि प्राकृतिक चिकित्सा की जाय तो उससे बेहतर कुछ नहीं है। उन्होंने प्राकृतिक चिकित्सा को आज की प्रचलित चिकित्सा पद्धति से जोड़ने का चिंतन विशाल जन समुदाय को दिया। "
  अधिक जानकारी